निताइ भगवान

Nitai Bhagwan

जय निताइ! निताइ भगवान (1473-1541 इ.पू.) कृष्ण और राम के बड़े भाई, बलराम और लक्ष्मण, के साक्षात अवतारी एवं स्वयं मूल संकर्षण हैं। वे आज तक के सबसे उदार और चमत्कारी महापुरुष रहे हैं। “नि” का अर्थ है ‘पाइए’, और “ताइ” का अर्थ है ‘जो कुछ आपको चाहिए’। उनका दिव्य नाम, और विशेषकर उनका वायुलेखन सर्व-शक्तिशाली होने के कारण सर्व-इच्छा-पूरक है।

हम निताइ भगवान से वायुलेखन के द्वारा जो कुछ मांगते हैं, वो सब कुछ वे हमें प्रदान करते हैं, चाहे वह हमारे भाग्य में हो या नहीं। निताइ भगवान जैसा दानी और कृपालु व्यक्तित्व आज तक इस पृथ्वी पर न हुआ है और न होगा! वे हमारे परम दाता हैं। वे केवल देते हैं और बदले में वे हमसे कोई अपेक्षा नहीं रखते। समग्र सृष्टि के मालिक होने के कारण उन्हीं में सब कुछ है।

🍀 निताइ भगवान की दयालता

बिना माफ़ी माँगे, निताइ भगवान हमे क्षमा कर देते हैं। वह हमारे भूत, भविष्य, तथा वर्तमान की सभी बाधाओं को अन्त कर देते हैं। इससे बहुत जल्द ही हमारी सभी इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं। हम सब को सफलता प्राप्त करने के लिए निताइ भगवान और उनके वायुलेखन की तीव्र आवश्यकता है। संसार में ऐसी कोई सिद्धि नहीं है जो ऊपर से आनेवाली अहैतुकी कृपा के बिना हमें मिल सकती है।

सब अवतारों में केवल निताइ भगवान ही, हमारे प्रारब्ध कर्म फलों को भी मिटाकर हमारी सारी मनोकामनाएँ पूर्ण करते हैं। निताइ भगवान ही हमारी एक मात्र आशा हैं। वे ही हमारा परम सुख के परम स्रोत हैं। वे हमारी योग्यता देखे बिना ही हम पर छप्पर फाड़ के कृपा बरसाते हैं।

🍀 संक्षिप्त में चमत्कारी निताइ चरित

निम्नलिखित कुछ दयालु चमत्कार हैं, जो साक्षात निताइ भगवान ने अपने दिव्य लीलामय जीवनकाल में हम सब के लिए किये :

🌺 1. 12 जनवरी, 1473 को जगतमाता पद्मावती और जगतपिता हाड़ाइ के दिव्य पुत्र के रूप में निताइ भगवान ने एकचक्र धाम में जन्म लिया। जन्म लेते ही, उन्होंने सम्पूर्ण बीरभूम और पश्चिम बंगाल को समृद्ध बना दिया। आज भी, निताइ वायुलेखन करने वाले या निताइधाम एकचक्र जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की हर इच्छा निश्चित रूप से पूर्ण हो जाती है।

🌺 2. अपने 20 वर्षों के भारत भ्रमण (1485-1505 इ.पू.) के दौरान स्वयं निताइ भगवान ने सम्पूर्ण भारतवर्ष के असंख्य लोगों के दुःख-दर्द दूर करके उन्हें सुखी एवं संपन्न बनाया।

🌺 3. उनके सिर पर मटका मारने के बावजूद, निताइ भगवान ने जगाइ और माधाइ नामक बंगाल के सब से बड़े पापी हत्यारों को क्षमा कर उन्हें शान्ति, प्रेम, और ऐश्वर्य प्रदान किया।

🌺 4. ओडिशा के राजा प्रतापरुद्र की अपार धन-संपत्ति भी निताइ भगवान के ही आशीर्वाद का फल थी। निताइ चरित के रूप में निताइ भगवान की परोपकारी लीलाओं को पढने या सुनने मात्र से हमारी सभी इच्छाएँ पूरी हो जाती हैं।

🌺 5. निताइ भगवान की कृपा से सेकडों बच्चे बलवान, बुद्धिमान, तेजस्वी, एवं यशस्वी बनें।

🌺 6. जिन चोरों ने स्वयं निताइ भगवान को लूटने के कई असफल प्रयास किए, उनको भी निताइ भगवान ने सबसे धनी बना दिया।

🌺 7. निताइ भगवान जगत-विख्यात समाज सुधारक थे। उन्होंने छुआछूत, उच्च-नीच, तथा जाती-पाती के आधार पर चल रहे अत्याचारों का अन्त किया। उन्होंने सभी को मानवता की शिक्षा दी और एक दुसरे के साथ प्रेम से रहना सिखाया।

🌺 8. निताइ भगवान ने कई बार अपने भक्तों को अपनी भगवत्ता के प्रमाण और चमत्कार दिखाए। कभी गोलोक के बलराम के रूप में अपने मूल दर्शन कराए, तो कभी वैकुण्ठ के चतुर्भुज नारायण के रूप में। यहाँ तक की जो विराट रूप भगवान कृष्ण ने अर्जुन को दिखाया था, वह भी निताइ भगवान ने प्रकट किया, क्योंकि वे कृष्ण के बड़े भाई हैं।

🌺 9. निताइ भगवान हमारे हृदय में परमात्मा रूप में नित्य स्थित हैं। इसलिए उन्हें भली भाति मालुम हैं कि प्रत्येक जीव ने कौनसी इच्छाएँ की हैं, करता है, और भविष्य में कौनसी करेगा। इसलिए केवल निताइ भगवान ही हमारी सभी इच्छाओंको पूर्ण कर सकते हैं।

🌺 10. निताइ भगवान की कभी मृत्यु नहीं होती और न ही वह हमारी तरह अन्त समय में अपना शरीर त्यागते हैं। उनका दिव्य रूप आदि, अमर, सच्चिदानन्द, और सारी सृष्टि का मूल है, जिससे दूसरे सब रूप और आकार आए हूए हैं। 1541 इ.पू. में निताइ धाम एकचक्र में निताइ भगवान ने अपने छोटे भाई बाँके बिहारी जी के मंदिर के गर्भ-गृह में प्रवेश किया और अदृश्य हो गए। सभी दरवाजे स्वत: ही उनकी योगमाया से बंद हुए। वे बाँके बिहारी जी के विग्रह में लीन होकर, अपने सनातन शरीर के साथ इस जगत से अप्रकट हुए। निताइ भगवान आज भी अपने सभी निताइभक्तों की इच्छाएँ पूरी करते हैं क्योंकि वे सर्वज्ञ, सर्वशक्तिमान, एवं सर्वव्यापी हैं।

💰 समृद्धि का उपाय 💰

अब विश्वभर में लोग निताइ भगवान, उनके नामक्षर के वायुलेखन, निताइ चरित, और एकचक्र तीर्थ-यात्रा का आश्रय लेकर उनकी परम उदारता को समझ रहे हैं। प्रतिदिन लोगों के जीवन में असंख्य चमत्कार हो रहे हैं। आपको अपने मत और पथ को बदलने की कोई आवश्यकता नहीं है। न कोई नियम पालन करने की। केवल निताइ भगवान, उनके वायुलेखन, और निताइ के चरित श्रवण-कीर्तन को अपने जीवन में जोड़िये।

🍀 विशाल दाता निताइ भगवान

निताइ भगवान हमारे सबसे घनिष्ट मित्र और शुभचिन्तक हैं, जो हमें कभी नहीं छोड़ते हैं। वे हमारे हृदय में सदा विराजमान हैं। हमारी सेवा में सदा तत्पर हैं। हम उनकी भक्ति नहीं करेंगे तो और किसकी करेंगे? निताइ भगवान उनके वायुलेखन के द्वारा हमारी सभी प्रार्थनाओं को साक्षात सुनते हैं, और बिना विलम्ब के हमें सारे फल प्रदान करते हैं।

🍀 हमारे भाग्य-विधाता निताइ भगवान

निताइ भगवान के दयालु नाम का वायुलेखन और निताइ चरित का श्रवण-कीर्तन आपके अन्दर परम शान्ति लाकर आपकी पूर्ण क्षमता को जगाएगा। निताइ भगवान का नाम आपको एक बेहतर मनुष्य बनाएगा। इसलिए वायुलेखन के द्वारा निताइ भगवान से माँगने की प्रक्रिया ही सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की हर परेशानी का रामबाण उपाय है। निताइ नाम ही सबका बिगड़ा भाग्य बनाता है, क्योंकि केवल निताइ भगवान ही सबके असली भाग्य-विधाता हैं।

निताइ भगवान और उनके वायुलेखन से सुख की प्राप्ति को कोई भी जाति, वर्ग, देश, संस्कृति, और धर्म के लोग अपने जीवन में जोड़ सकते हैं। अपनी किसी भी मान्यताओं को बदलने की, या कोई नए नियम पालन करने की, या किसी संस्था या गूरू से जूड़ने की ज़रूरत नहीं है। सफलता के लिए आपके जीवन में केवल निताइ वायुलेखन को जोड़ने की आवश्यकता है।

और जानकारी के लिए पढ़िए :
निताइ भगवान के वायुलेखन से धन-प्राप्ति
निताइ दरबार

Read to know more:
Who is Nitai Bhagwan?
How to Become Rich by Lord Nitai’s Vayulekhan
Nitai Darbar

Nitai Bhagwan

Ram Krishna Nitai

Nitai Bhagwan of Mahakali

Nitai embraces Madhai

Nitai Embraces Jiva

9 thoughts on “निताइ भगवान”

  1. Bhagvan ho to Nitai jaisa! Really very motivating article. I have myself seen my so many wishes are fulfilled just by writing Nitai in air (Nitai Vayulekhan). For everything…there is just one solution- NITAI!

    View Comment
  2. निताइ !!! इतने दयाल भगवान और कहा मिलेंगे ?? इनके विषय में बताने के लिय धन्यावाद ।

    View Comment
  3. Nitai bhagwaan or inke chamatkaar alaukik hai… Bhagwaan Nitaai ke kaaran ab koi kami hi mehsoos nahi hoti mujhe life mein… aisa lagta hai Sab kuch mil gaya…. Joy Nitaaaaaaaaaiiii

    View Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *