निताइ दरबार

💰 आपके घर में ईश्वर का मुफ़्त इच्छापूरक दरबार

🍀 जय निताइ! निताइ भगवान और उनके वायुलेखन के चमत्कारों का फ़ायदा आप सब को दे सकते हैं। आप कोई भी समय पर अपने घर, हॉल, या अन्दर-बाहर किसी भी जगह में, कम से कम एक घंटे का निताइ दरबार आयोजित करके सबको आमंत्रित कर सकते हैं। निताइ दरबार में यह छः कार्यक्रम हो सकते हैं :

🌺 1. निताइ महिमा : सब सम्मिलित निताइभक्त संगीत और नृत्य के साथ निताइ चालीसा, निताइ भजन, निताइ नाम कीर्तन, निताइ चरित, और एकचक भजन गाएँ।

🌺 2. निताइ वायुलेखन : मन में निताइ भगवान से अपनी अपनी इच्छाएँ माँगते हुए, सब उपस्थित निताइभक्त साथ में कम से कम ३० बार निताइ वायुलेखन करें।

🌺 3. चमत्कार शेयरिंग : एक एक करके निताइभक्त अपने जीवन में हुए निताइ के चमत्कारों को शेयर करें।

🌺 4. वायुलेखन संकल्प : फिर अपनी इच्छाओं की पूर्ति हेतु, प्रतिदिन कम से कम ३० बार निताइ भगवान का वायुलेखन करने का संकल्प सब लें।

🌺 5. निताइ आरती : अन्त में निताइ भगवान और उनके नाम के चित्र या विग्रह की महाआरती और प्रदक्षिणा करें।

🌺 6. निताइ महाप्रसाद : अपनी क्षमता के अनुसार, निताइ भगवान को भोग अर्पण करके, उस निताइ महाप्रसाद को सब पा सकते हैं।

🍀 इन छः के इलावा, इच्छानुसार, आप दूसरे अनेक प्रकार के कार्यक्रम भी निताइ दरबार में कर सकते हैं। अगर कोई नहीं हो तो भी आप अकेले या एक दो के साथ भी सर्वव्यापी निताइ भगवान के चित्र के समक्ष उनका दरबार कर सकते हैं। निताइ दरबारों को आयोजित या उनमें सहभागी होने से निताइ भगवान की चमत्कारी कृपा आप पर और भी बरसेगी।

💰 माँगना है तो निताइ भगवान से मांगो 💰

🍄 इच्छापूर्ति की विडम्बना

हमारे अंतर्मन में कुछ ऐसी इच्छाएँ होती हैं जिनकी पूर्ति की कल्पना मात्र से हम आनंदित हो उठते हैं। किन्तु जब वास्तविक जीवन में यह इच्छाएँ पूरी नहीं होतीं, तो हम मन ही मन बहुत उदास और निराश हो जाते हैं। ऐसा किसी-किसी के साथ नहीं, बल्कि हम सभी के साथ होता है। इच्छा करना तो प्रत्येक जीव का स्वभाव है। समस्या यह है कि इच्छाओं का पूरा होना हमारे हाथ में नहीं है। इच्छाओं की पूर्ति में जब अत्यधिक विलम्ब हो जाता है, तो हम किसी न किसी के दरबार में जाते ही हैं। लेकिन हर दरबार एक जैसा नहीं होता। कई दरबार ऐसे हैं जहाँ किसी साधारण मनुष्य को भगवान के रूप में महिमामंडित किया जाता है। कई दरबार ऐसे हैं जहाँ हमें अपनी एक एक इच्छा की पूर्ति के लिए किसी स्वार्थी के लालच की तृप्ति करनी पड़ती है, फिर भी वे पूरी नहीं हो पाती। इससे हमारी आस्था और श्रद्धा को गहरी ठेस पहुँचती है।

🍄 आपके घर में ईश्वर का मुफ़्त दरबार

ईश्वर के दरबार को व्यापार नहीं बनाना चाहिए। यह हमेशा दुखियों के लिए निशुल्क होना चाहिए। प्रस्तुत है एक ऐसा दरबार जो आप अपने घर बैठे आयोजित करके लाभ उठा सकते हैं। सृष्टि के सबसे बड़े दाता निताइ भगवान का यह दरबार, इच्छापूर्ति तथा सभी कष्टों और अभावों के निवारण का रामबाण उपाय है। आपको कहीं जाने की ज़रुरत नहीं है। न ही किसी कठिन अनुष्ठान की आवश्यकता। आपको केवल निताइ भगवान और उनके नाम का एक चित्र अपने घर में रखना है, और उसके समक्ष निताइ वायुलेखन और निताइ दरबार करना है। अपने सगे-सम्बन्धियों या मित्रों के साथ मिल कर आप निताइ दरबार में निताइ वायुलेखन करेंगे, तो वह भी काफी होगा। इधर आप अपनी तर्जनी उंगली से हवा में निताइ भगवान का नाम लिखेंगे, और उधर निताइ भगवान आपके भाग्य में जो नहीं है वह भी लिख डालेंगे। इसलिए कहते हैं कि माँगना है तो निताइ भगवान से ही माँगो।

🍄 निताइ दरबार का आयोजन

निताइ दरबार के दौरान कम से कम ३० बार निताइ वायुलेखन करते हूए, अपनी छोटी से छोटी इच्छा को मन में निताइ भगवान को बताइए। वायुलेखन उनको इतना प्यारा है की निताइ भगवान उन इच्छाओं को पूरा करने में देरी नहीं करेंगे। निःसन्देह, वे ईश्वर के सबसे दयालु स्वरूप हैं। इसके पश्चात सभी अपने जीवन में हुए निताइ चमत्कारों और लाभों के बारे में एक एक करके बताकर, सबको प्रोत्साहित कर सकते हैं। यह निताइ भगवान के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करने का एक जरिया है। दूसरों को निताइ भगवान और उनके वायुलेखन के बारे में बताने मात्र से ही पूरे जगत का कल्याण होता है। और यह करने वालों पर तो निताइ भगवान की सबसे अधिक कृपा बरसती है। अगर आपको निताइ भगवान और उनके वायुलेखन से कुछ मिला है, तो आपका कर्तव्य है की आपको निताइ वायुलेखन, निताइ दरबार, निताइ चरित, निताइ नाम, और निताइ धाम एकचक्र की महिमा को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुँचाकर, सम्पूर्ण विश्व का कल्याण करना चाहिए।

🍄 गलतियों के परिणामों से भी मुक्ति

निताइ दरबार की एक खासियत और है। अगर आपसे जाने-अनजाने में कभी भी कुछ ग़लतियाँ हुई हों, जिनके कारण आप दुखी हों, तो वायुलेखन के समय आप निताइ भगवान से मन ही मन उनके लिए क्षमा मांगकर, सदा-सदा के लिए उनके दुष्परिणामों से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। इस प्रकार निताइ दरबार में निताइ वायुलेखन के द्वारा निताइ भगवान से क्षमा माँगकर भूत-वर्तमान-भविष्य में आपने की हुई समस्त ग़लतियों से आप तुरन्त ही मुक्त हो जाते हो, और धीरे-धीरे एक बेहतर मनुष्य बन जाते हो। इस संसार में निताइ भगवान से जल्दी और कोई आपको क्षमा नहीं करेगा। इसलिए यह भी सत्य है कि क्षमा माँगनी है तो भी निताइ भगवान से ही माँगो।

🍄 सबको सुखी बनाइए

हक़ीक़त में, निताइ दरबार के बिना स्वयं और दूसरों को इतनी सरलता से मुफ़्त में सुखी बनाने का अन्य कोई और मार्ग नहीं है। इसलिए, हम आपसे अनुरोध करते हैं की निताइ दरबार द्वारा इस निताइ ज्ञान को विज्ञान में परिवर्तित कर आपके और दूसरों के जीवन को आनन्द और समृद्धि की लहरों में डुबो दीजिए।

और जानकारी के लिए पढ़िए :
निताइ भगवान कौन हैं?
निताइ भगवान के वायुलेखन से धन-प्राप्ति

Read to know more:
Who is Nitai Bhagwan?
How to Become Rich by Lord Nitai’s Vayulekhan
Nitai Darbar

निताइ भगवान के वायुलेखन से धन-प्राप्ति

💰 जय निताइ! कलियुग में श्री कृष्ण के बड़े भाई बलराम, निताइ भगवान (सन् १४७३-१५४१) के रूप में एकचक्र धाम में प्रगटे। उन्होंने इस संसार के सभी जीवों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति और दुखों का निवारण किया, और अभी भी कर रहे हैं| निताइ भगवान ने आजीवन असंख्य चमत्कारों के द्वारा इस जगत के हर जीव का भला किया। १५४१ में निताइ भगवान के एकचक्र बाँकेबिहारी में तिरोभाव के पश्चात, उनकी कृपा को श्रद्धालु जन उनके परमदयालु नाम के वायुलेखन के द्वारा पूर्ण रूप से प्राप्त कर रहें हैं, और उसे सम्पूर्ण विश्व में बाँट रहें हैं।

💰 वायुलेखन से समृद्धि

निताइ भगवान के नाम का वायुलेखन एक ऐसा असाधारण मार्ग है जो आपको बहुत जल्द ही धनी, स्वस्थ, सुन्दर, सफल, यशस्वी, बलवान, बुद्धिमान, चिन्ता-मुक्त, प्रशान्त, एवं प्रसन्न बनाएगा। “निताइ” मन्त्र प्राचीन एवं मूल संस्कृत अक्षरों से बना एक सर्वशक्तिशाली वैदिक मंत्र है। आप सभी को इस दिव्य निताइ” मन्त्र के वायुलेखन का ज्ञान मुफ्त में बाँटा जा रहा है। इसलिए इसे एक बार ज़रूर करके देखिये।

💰 वायुलेखन से शान्ति

निताइ वायुलेखन महा-चमत्कारी होने के साथ साथ एक उत्तम मैडिटेशन भी है। यह आपके मस्तिष्क में दिव्य आनन्द का संचार करता है। यह आपको पूर्ण मानसिक शान्ति और सुख प्रदान करेगा। निताइ भगवान का वायुलेखन हर श्रेणी के व्यक्ति के लिए संपन्नता एवं इच्छापूर्ति का मुफ्त, सरल, एवं प्रमाणिक उपाय है।

🍄🍄 निताइ वायुलेखन की प्रक्रिया

🌺🌺 तर्जनी उंगली से “निताइ” मन्त्र के १० अक्षरों को एक-एक करके सामने हवा में बड़े आकार में लिखिए। लिखे जाने वाले प्रत्येक अक्षर के आकार का बारीकी और अति-स्पष्ट रूप से मन में बन्द आँखों द्वारा, या सामने खुली आँखों से, ध्यान कीजिये । यह प्रतिदिन ३० बार (१० मिनट) दोहरायें। 🌺🌺

🌺 अति-शीघ्र परिणामों के लिए, आप इस प्रक्रिया को प्रतिदिन १०८ बार या ज़्यादा भी कर सकते हैं। इसे करते समय अपनी कोहनी को किसी सतह का सहारा भी दे सकते हैं। निताइ भगवान के प्रबल नाम, चरित, और गुणों के श्रवण-कीर्तन-रटन और निताइधाम एकचक्र की यात्रा से वायुलेखन में और भी जल्दी सिद्धि मिलती है। निताइ वायुलेखन का अभ्यास किसी भी समय, स्थान, या अवस्था में किया जा सकता है। इसमें और कोई भी नियम या प्रतिबन्ध नहीं हैं।

💰 वायुलेखन से सफलता

विश्वभर में निताइ वायुलेखन अतिशय चमत्कारी सिद्ध हुआ है। जो भी नियमित रूप से इसका अभ्यास कर रहे हैं, उनके जीवन में अकस्मात् ही धनप्राप्ति हो रही है, और उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो रही हैं। वायुलेखन व्यक्ति को हर कार्य में सफलता दिलाता है तथा सभी प्रकार के कष्ट, रोग, और तनाव से छुटकारा भी दिलाता है। आपको विश्वास नहीं आ रहा है तो इसे एक महीना करके देखिए।

💰 वायुलेखन में स्पष्ट ध्यान

निताइ मन्त्र का प्रत्येक अक्षर आपके जीवन को सुन्दर तथा उत्तम बनाएगा। इसलिए आपसे नम्र अनुरोध है कि आप जितना स्पष्ट-रूप से इनका मानसिक ध्यान कर सकें उतना ज़रूर कीजिये। वायुलेखन के समय जितना “निताइ” का स्पष्ट ध्यान होगा, उतनी ही जल्दी आप अपने सभी लक्ष्यों तक पहुँच जायेंगे।

💰 वायुलेखन में स्पष्ट ध्यान

निताइ भगवान का वायुलेखन एक परिणाम-उन्मुख और मुफ्त अभ्यास है। आप इसकी शक्ति से प्राप्त होने वाले लाभों के द्वारा ही इसे परख सकते हैं। निताइ वायुलेखन किसी भी प्रकार से आपकी मौजूदा मान्यताओं और आस्थाओँ को बदलने की कोशिश नहीं करता।

🍀 अस्वीकरण

वायुलेखन का उपयोग जीवन में मेडिकल चिकित्सा उपचार और मेहनत को प्रतिस्थापित करने के लिए कदापि नहीं करना चाहिए। और न ही यह जीवन के आवश्यक प्रयासों से पलायन को प्रोत्साहन देता है। वह केवल इन सबमें आपका सहयोग करता है। हमें निताइ भगवान और उनके वायुलेखन के चमत्कारों से बहुत लाभ हुआ है। इसलिए हम निःस्वार्थ भाव से बिलकुल मुफ़्त में इसका प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। यह कुछ भी खोए बिना सब कुछ पाने का सौदा है। गवाइएगा मत!

निताइ भगवान और उनके वायुलेखन से जो चमत्कार निताइभक्तों ने हमें भेजे हैं, वह कुछ लोगों के अनुभव और उनकी अपनी परिस्थितियों पर आधारित हो सकते हैं। हम कोई ऐसी गारंटी नहीं दे रहे हैं कि आपको भी निताइ भगवान के वायुलेखन करने से वही लाभ होंगे। हर कोई एक जैसे परिणामों की उम्मीद नहीं कर सकता। परिणाम व्यक्ति दर व्यक्ति भिन्न होंगे। यह मुफ़्त है, आप करके देख सकते हैं। किसी भी विशिष्ट बीमारी के संबंध में निताइ भगवान और उनके वायुलेखन को वैज्ञानिक दृष्टि से उपचार के रूप में मान्य नहीं किया गया है। हम किसी भी चमत्कारी इलाज के संबंध में कोई वादा नहीं कर रहे हैं और न करेंगे।

और जानकारी के लिए पढ़िए :
निताइ भगवान कौन हैं?
निताइ दरबार

Read to know more:
Who is Nitai Bhagwan?
How to Become Rich by Lord Nitai’s Vayulekhan
Nitai Darbar

निताइ भगवान

जय निताइ! निताइ भगवान (1473-1541 इ.पू.) कृष्ण और राम के बड़े भाई, बलराम और लक्ष्मण, के साक्षात अवतारी एवं स्वयं मूल संकर्षण हैं। वे आज तक के सबसे उदार और चमत्कारी महापुरुष रहे हैं। “नि” का अर्थ है ‘पाइए’, और “ताइ” का अर्थ है ‘जो कुछ आपको चाहिए’। उनका दिव्य नाम, और विशेषकर उनका वायुलेखन सर्व-शक्तिशाली होने के कारण सर्व-इच्छा-पूरक है।

हम निताइ भगवान से वायुलेखन के द्वारा जो कुछ मांगते हैं, वो सब कुछ वे हमें प्रदान करते हैं, चाहे वह हमारे भाग्य में हो या नहीं। निताइ भगवान जैसा दानी और कृपालु व्यक्तित्व आज तक इस पृथ्वी पर न हुआ है और न होगा! वे हमारे परम दाता हैं। वे केवल देते हैं और बदले में वे हमसे कोई अपेक्षा नहीं रखते। समग्र सृष्टि के मालिक होने के कारण उन्हीं में सब कुछ है।

🍀 निताइ भगवान की दयालता

बिना माफ़ी माँगे, निताइ भगवान हमे क्षमा कर देते हैं। वह हमारे भूत, भविष्य, तथा वर्तमान की सभी बाधाओं को अन्त कर देते हैं। इससे बहुत जल्द ही हमारी सभी इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं। हम सब को सफलता प्राप्त करने के लिए निताइ भगवान और उनके वायुलेखन की तीव्र आवश्यकता है। संसार में ऐसी कोई सिद्धि नहीं है जो ऊपर से आनेवाली अहैतुकी कृपा के बिना हमें मिल सकती है।

सब अवतारों में केवल निताइ भगवान ही, हमारे प्रारब्ध कर्म फलों को भी मिटाकर हमारी सारी मनोकामनाएँ पूर्ण करते हैं। निताइ भगवान ही हमारी एक मात्र आशा हैं। वे ही हमारा परम सुख के परम स्रोत हैं। वे हमारी योग्यता देखे बिना ही हम पर छप्पर फाड़ के कृपा बरसाते हैं।

🍀 संक्षिप्त में चमत्कारी निताइ चरित

निम्नलिखित कुछ दयालु चमत्कार हैं, जो साक्षात निताइ भगवान ने अपने दिव्य लीलामय जीवनकाल में हम सब के लिए किये :

🌺 1. 12 जनवरी, 1473 को जगतमाता पद्मावती और जगतपिता हाड़ाइ के दिव्य पुत्र के रूप में निताइ भगवान ने एकचक्र धाम में जन्म लिया। जन्म लेते ही, उन्होंने सम्पूर्ण बीरभूम और पश्चिम बंगाल को समृद्ध बना दिया। आज भी, निताइ वायुलेखन करने वाले या निताइधाम एकचक्र जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की हर इच्छा निश्चित रूप से पूर्ण हो जाती है।

🌺 2. अपने 20 वर्षों के भारत भ्रमण (1485-1505 इ.पू.) के दौरान स्वयं निताइ भगवान ने सम्पूर्ण भारतवर्ष के असंख्य लोगों के दुःख-दर्द दूर करके उन्हें सुखी एवं संपन्न बनाया।

🌺 3. उनके सिर पर मटका मारने के बावजूद, निताइ भगवान ने जगाइ और माधाइ नामक बंगाल के सब से बड़े पापी हत्यारों को क्षमा कर उन्हें शान्ति, प्रेम, और ऐश्वर्य प्रदान किया।

🌺 4. ओडिशा के राजा प्रतापरुद्र की अपार धन-संपत्ति भी निताइ भगवान के ही आशीर्वाद का फल थी। निताइ चरित के रूप में निताइ भगवान की परोपकारी लीलाओं को पढने या सुनने मात्र से हमारी सभी इच्छाएँ पूरी हो जाती हैं।

🌺 5. निताइ भगवान की कृपा से सेकडों बच्चे बलवान, बुद्धिमान, तेजस्वी, एवं यशस्वी बनें।

🌺 6. जिन चोरों ने स्वयं निताइ भगवान को लूटने के कई असफल प्रयास किए, उनको भी निताइ भगवान ने सबसे धनी बना दिया।

🌺 7. निताइ भगवान जगत-विख्यात समाज सुधारक थे। उन्होंने छुआछूत, उच्च-नीच, तथा जाती-पाती के आधार पर चल रहे अत्याचारों का अन्त किया। उन्होंने सभी को मानवता की शिक्षा दी और एक दुसरे के साथ प्रेम से रहना सिखाया।

🌺 8. निताइ भगवान ने कई बार अपने भक्तों को अपनी भगवत्ता के प्रमाण और चमत्कार दिखाए। कभी गोलोक के बलराम के रूप में अपने मूल दर्शन कराए, तो कभी वैकुण्ठ के चतुर्भुज नारायण के रूप में। यहाँ तक की जो विराट रूप भगवान कृष्ण ने अर्जुन को दिखाया था, वह भी निताइ भगवान ने प्रकट किया, क्योंकि वे कृष्ण के बड़े भाई हैं।

🌺 9. निताइ भगवान हमारे हृदय में परमात्मा रूप में नित्य स्थित हैं। इसलिए उन्हें भली भाति मालुम हैं कि प्रत्येक जीव ने कौनसी इच्छाएँ की हैं, करता है, और भविष्य में कौनसी करेगा। इसलिए केवल निताइ भगवान ही हमारी सभी इच्छाओंको पूर्ण कर सकते हैं।

🌺 10. निताइ भगवान की कभी मृत्यु नहीं होती और न ही वह हमारी तरह अन्त समय में अपना शरीर त्यागते हैं। उनका दिव्य रूप आदि, अमर, सच्चिदानन्द, और सारी सृष्टि का मूल है, जिससे दूसरे सब रूप और आकार आए हूए हैं। 1541 इ.पू. में निताइ धाम एकचक्र में निताइ भगवान ने अपने छोटे भाई बाँके बिहारी जी के मंदिर के गर्भ-गृह में प्रवेश किया और अदृश्य हो गए। सभी दरवाजे स्वत: ही उनकी योगमाया से बंद हुए। वे बाँके बिहारी जी के विग्रह में लीन होकर, अपने सनातन शरीर के साथ इस जगत से अप्रकट हुए। निताइ भगवान आज भी अपने सभी निताइभक्तों की इच्छाएँ पूरी करते हैं क्योंकि वे सर्वज्ञ, सर्वशक्तिमान, एवं सर्वव्यापी हैं।

💰 समृद्धि का उपाय 💰

अब विश्वभर में लोग निताइ भगवान, उनके नामक्षर के वायुलेखन, निताइ चरित, और एकचक्र तीर्थ-यात्रा का आश्रय लेकर उनकी परम उदारता को समझ रहे हैं। प्रतिदिन लोगों के जीवन में असंख्य चमत्कार हो रहे हैं। आपको अपने मत और पथ को बदलने की कोई आवश्यकता नहीं है। न कोई नियम पालन करने की। केवल निताइ भगवान, उनके वायुलेखन, और निताइ के चरित श्रवण-कीर्तन को अपने जीवन में जोड़िये।

🍀 विशाल दाता निताइ भगवान

निताइ भगवान हमारे सबसे घनिष्ट मित्र और शुभचिन्तक हैं, जो हमें कभी नहीं छोड़ते हैं। वे हमारे हृदय में सदा विराजमान हैं। हमारी सेवा में सदा तत्पर हैं। हम उनकी भक्ति नहीं करेंगे तो और किसकी करेंगे? निताइ भगवान उनके वायुलेखन के द्वारा हमारी सभी प्रार्थनाओं को साक्षात सुनते हैं, और बिना विलम्ब के हमें सारे फल प्रदान करते हैं।

🍀 हमारे भाग्य-विधाता निताइ भगवान

निताइ भगवान के दयालु नाम का वायुलेखन और निताइ चरित का श्रवण-कीर्तन आपके अन्दर परम शान्ति लाकर आपकी पूर्ण क्षमता को जगाएगा। निताइ भगवान का नाम आपको एक बेहतर मनुष्य बनाएगा। इसलिए वायुलेखन के द्वारा निताइ भगवान से माँगने की प्रक्रिया ही सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की हर परेशानी का रामबाण उपाय है। निताइ नाम ही सबका बिगड़ा भाग्य बनाता है, क्योंकि केवल निताइ भगवान ही सबके असली भाग्य-विधाता हैं।

निताइ भगवान और उनके वायुलेखन से सुख की प्राप्ति को कोई भी जाति, वर्ग, देश, संस्कृति, और धर्म के लोग अपने जीवन में जोड़ सकते हैं। अपनी किसी भी मान्यताओं को बदलने की, या कोई नए नियम पालन करने की, या किसी संस्था या गूरू से जूड़ने की ज़रूरत नहीं है। सफलता के लिए आपके जीवन में केवल निताइ वायुलेखन को जोड़ने की आवश्यकता है।

और जानकारी के लिए पढ़िए :
निताइ भगवान के वायुलेखन से धन-प्राप्ति
निताइ दरबार

Read to know more:
Who is Nitai Bhagwan?
How to Become Rich by Lord Nitai’s Vayulekhan
Nitai Darbar

Nitai Bhagwan

Ram Krishna Nitai

Nitai Bhagwan of Mahakali

Nitai embraces Madhai

Nitai Embraces Jiva